भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बन्धु रे ! / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बन्धु रे!
हम-तुम
घने जंगल की तरह होते
नम भर वाले अगर
थकते नहीं ढोते
       बन्धु रे, हम-तुम!

फिर न रेगिस्तान होते
देह में ऐसे
फिर न आते क्षर पर
मेहमान हों जैसे
हड्डियों को काटती क्यों
औपचारिकता
       खोखली मुस्कान की
       तह में नहीं रोते
       बन्धु रे, हम-तुम!

चेहरों से उड़ गई
पहचान बचपन की
अजनबी से कौन फिर
बातें करे मन की
बात करने के लिए
अख़बार की कतरन
       
       फेंक देते हैं हवा में
       जागते-सोते
       बन्धु रे, हम-तुम!

दृष्टि स्नेहिल
दूसरों के वास्ते रख कर
ख़ून हो कर
हो गये नाख़ून से बदतर
कनखियों के दंश
       दरके हुए आँगन की
       आड़े में काँटे नहीं बोते
       बन्धु रे, हम-तुम!