भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरखा में नाव-तले साये / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरखा के
भीगे दिन आये बरखा के
आओ, चलें पूजें जल-देवता
 
गीली पगडंडी पर
छाप मेंहराजा के पाँवों की
भरी नदी
खोज-खबर लेती है
मछुओं के गाँवों की
 
बरखा के
काले घन छाये बरखा के
आओ, चलें पूजें जल-देवता
 
अलसाई खिड़की को
थपकी दी रेशमी फुहारों ने
लहरों को चूम लिया
झुककर
पगली पतवारों ने
 
बरखा के
नव-तले साये बरखा के
आओ, चलें पूजें जल-देवता