भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बरसते मेह का / हेमन्त श्रीमाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चुम्बन ले जो रोज़ गुलाबी देह का
हमसे अच्छा भाग बरसते मेह का

पहले तो गौरी के तन को ये जमकर नहलाए
नहलाने की ओट लिए फिर अन्तर तक सहलाए
करता है इज़हार लिपटकर स्नेह का
हमसे अच्छा भाग बरसते मेह का

अलकों से पलकों पर ढुलके फिर होंठों को लूटे
ठोड़ी तक आते-आते तो इसका धीरज छूटे
दौड़ करे मधुपान उमर के गेह का
हमसे अच्छा भाग बरसते मेह का

इक छी।टा हमने मारा तो अब तक है नाराज़ी
सौ-सौ बार भिगोया जिसने उसकी "हाँ जी-हाँ जी"
दान उसे विश्वास हमें सन्देह का
हमसे अच्छा भाग बरसते मेह का