भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बराम्हन नेवतब, बराम्हनी नेवतब / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बराम्हन नेवतब[1] बराम्हनी नेवतब।
नेवतब, पोथिया सहिते[2] चलि आवऽ, माई हे।
कब हम देखम[3] रामजी जनेउआ, कब हम देखम
किरिस्न[4] जनेउआ, माई हे॥1॥
कुम्हरा[5] नेवतब, कुम्हइनियाँ[6] नेवतब।
नेवतब, कलसा सहिते चलि आवऽ, माई हे।
कब हम देखम रामजी जनेउआ, कब हम देखम
किरिस्न जनेउआ, माई ह॥2॥
हजमा नेवतब, हजमिनियाँ नेवतब।
नेवतब, छुरवा समेते चलि आवऽ, माई हे।
कब हम देखम रामजी जनेउआ, कब हम देखम
किरिस्न जनेउआ, माई हे॥3॥

शब्दार्थ
  1. निमंत्रित करूँगी
  2. साथ
  3. देखूँगी
  4. कृष्ण
  5. कुम्हार, कुम्भकार
  6. कुम्हारिन, कुम्भकार की स्त्री