भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बर्थ पर लेट के हम सो गये आसानी से / 'अना' क़ासमी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बर्थ पर लेट के हम सो गये आसानी से
फ़ायदा कुछ तो हुआ बे सरो सामानी से
     
माँ ने स्कूल को जाती हुई बेटी से कहा
तेरी बिंदिया न गिरे देखना पेशानी[1] से

मुफ़्त में नेकियाँ मिलती थीं शजर[2] था घर में
अब हैं महरूम[3] परिंदों की भी मेहमानी से

रात देखो न कभी दिन का कोई पास रखो
मैं तो हारा हूँ बहुत आप की मन मानी से

मैं वही हूँ के मिरी क़द्र न जानी तुमने
अब खड़े देखते क्या हो मुझे हैरानी से

इसमें राँझाओं की नालायकि़यों का क्या है
इश्क़ जिंदा है तो बस हुस्न की क़ुर्बानी से

कोई दानाई यहाँ काम नहीं आती ’अना’
शेर कुछ अच्छे निकल आते हैं नादानी से

शब्दार्थ
  1. माथा
  2. पेड़
  3. वंचित