भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बर्बरता की ढाल ठाकरे / नागार्जुन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

          बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे !
          कैसे फ़ासिस्टी प्रभुओं की --
          गला रहा है दाल ठाकरे !
      अबे सँभल जा, वो पहुँचा बाल ठाकरे !
          सबने हाँ की, कौन ना करे !
         छिप जा, मत तू उधर ताक रे !
शिव-सेना की वर्दी डाटे, जमा रहा लय-ताल ठाकरे !
       सभी डर गए, बजा रहा है गाल ठाकरे !

गूँज रहीं सह्याद्री घाटियाँ, मचा रहा भूचाल ठाकरे !
मन ही मन कहते राजा जी, जिये भला सौ साल ठाकरे !
चुप है कवि, डरता है शायद, खींच नहीं ले खाल ठाकरे !
कौन नहीं फँसता है देखें, बिछा चुका है जाल ठाकरे !
बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे !
          बर्बरता की ढाल ठाकरे !
          प्रजातन्त्र का काल ठाकरे !

धन-पिशाच का इंगित पाकर, ऊँचा करता भाल ठाकरे !
चला पूछने मुसोलिनी से, अपने दिल का हाल ठाकरे !
बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे !