भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बल्देणु उत्तराखण्ड / सुधीर बर्त्वाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उत्तर प्रदेश बटि
ल्यै छा बल्देणु उत्तराखण्ड
अर
सोचि छो कि
खूब रऽजलु-फऽबलु
दुणासु होलु
घीं - दूध बरखोलु।
पर
यरां कख छा लैणा जोग।
आज सु बाखड्या ह्वैगी
नौणे गोन्खि आस
स्याणि बणीक हि रैगि।