भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बस हिकु वधीक / मोहन गेहाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माउ जा वाकनि मथां वाका
जल्द करि घरि हलिणो आहे
तुंहिंजी मिन्थ
हिकु लोॾो पींघ ते वधीक
सिर्फ़ हिकु लोॾो वधीक!

तो चौॾोलु ॾिठो
माउ जी आङुरि छॾाए भॻें
चयुइ-
सिर्फ़ हिकु चकरु वधीक
सिर्फ़ हिकु चकरु वधीक

चौॾोल तां लही तो
डोड़ पाती
गिसकणि ॾांहुं
हिकु भेरो
सिर्फ़ हिकु भेरो वधीक
इहो सभु अॻे हो
हाणे
हिक बिल्डिंग वधीक
हिकु दुकानु वधीक
हिक ऐजनसी वधीक
हिकु किरोडु़ वधीक
गिसकणि, गिसकणि आहे।