भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहते दरिया में किसी दिन वो बहा देगा मुझे / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहते दरिया में किसी दिन वो बहा देगा मुझे ।
रेत पर इस बार भी लिख कर मिटा देगा मुझे ।

ग़म, जुदाई, अश्क़, तोहमत, बेबसी देने के बाद,
मैं भी देखूँ ये मुक़द्दर और क्या देगा मुझे ।

जिसकी ख़ातिर मैंने गिरवी रक्खी थीं खुद्दरियाँ,
क्या ख़बर थी वो भी नज़रों से गिरा देगा मुझे ।

रेत में तब्दील कर डाला मुझे उस शख़्स ने,
कह रहा था जो कभी दरिया बना देगा मुझे ।

इस बदन में क़ैद हूँ मैं एक पंछी की तरह,
एक दिन लम्हा कोई आकर उड़ा देगा मुझे ।

फ़ासलों से मिल रहा है इससे तो लगता है ये,
वो जुदाई की बहुत लम्बी सज़ा देगा मुझे ।

अपनी ग़ज़लों में तुझे ज़िन्दा करूँगा देखना,
इन दुआओं में असर जिस दिन ख़ुदा देगा मुझे ।