भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बहुत दूर तक देखा / किरण मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत दूर तक देखा
सागर का किनारा
नज़र नहीं आया
सैकड़ों सफ़ेद लहरें थीं

नज़र नहीं आया
किस की तरह खिंची
चली जा रही थी
लहरें क्यूँ बढ़ी
चली आ रही थीं
कुछ भी पकड़ में
नहीं आया

सब जीवन-सा
रहस्यमय लगा

कठपुतली की तरह
जिसमें सब नाच रहे
लेकिन
डोर खींचने वाला
नज़र नहीं आया