भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बागां मांय रा लिम्बूड़ा तो नई नमे / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बागां मांय रा लिम्बूड़ा तो नई नमे
नमे उनकी फलां भर डाळ
अमर बधावो समरथ बीर को
फलाणा राय तो नई नमे
नमे उनकी पागड़ली रा पेंच
जोड़ा बऊ तो नई नमें
नमें उनकी चूड़ा भरी बांव
अमर बधावो समरथ बीर को।