भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बादरे! / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खंभात की खाड़ी की ओर से उमड़ते-घुमड़ते
आते बादलों को देखकर

गदबदे-गदबदे, साँवरे-साँवरे,
आ गये बादरे!

केश बिखरे हुए, आँख अंजन-अँजी,
बीजुरी दोलड़ा स्वर्णकंठी सजी,
रूपवन्ती किसी गोरटी की मदिर-
मस्त-माते नयन में सजल याद ले!
आ गये बादरे!

छमछमाते चरण में ठुमक मणिपुरी,
लंक में है लचक, ओठ पर बाँसुरी;
झाँवरी-झाँवरी, दूबरी-दूबरी-
आ गये हैं, धरा को लगाने गले!
आ गये बादरे!