भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाप ने पठाया शहर / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बाप ने पठाया शहर

मेरे बाप ने
पठाया शहर मुझे

सोंधापन गांव का पीकर,
गालों पर फूल
होठों पर कलियां
बांहों में हरी-भरी डालियां
सजाकर, सहेजकर
और भिनसारे से सांझ तक
आंखों की चौरस छिपली में
परोसी जा रही
रस्सेदार व्यंजन छोडकर,
मैं चला आया यहां
सडक की तारकोली गंध सुडकने
धूल और निकोटीनी गैस फांकने
इमारतों की परछाइयां चबाने.