भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बाबा नागार्जुन के लिए / कैलाश मनहर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवन में कविता की भाषा तुमसे सीखी
कविता में जीवन की आशा तुमसे सीखी
दुखित जनों के लिए दिलासा तुमसे सीखी
मौलिकता कुछ तोला-मासा तुमसे सीखी

तुमसे सीखा धन-वैभव को लात मारना
तुमसे सीखा निर्धन-जन की बात सारना
तुमसे सीखा सच्चाई पर प्राण वारना
तुमसे सीखा कठिनाई में नहीं हारना

तुमसे सीखा जन-जुड़ाव का सहज तरीक़ा
तुमसे सीखा बातचीत का साफ़ सलीका
अन्यायी से लड़ने का साहस भी तुमसे सीखा
घुम्मकड़ी से लेना अनुभव-रस भी तुमसे सीखा

ओ बाबा ! तुम इसीलिए तो याद आ रहे हो फिर मुझको
तुमने ही तो सदा सिखाया ऊँचा रखना यह सिर मुझको