भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बायरो / रचना शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थूं मून अर म्हैं मून
चिनीक सी दूरी
जुगां रो आंतरो
बिचाळै पसरयोड़ो
थांरो मुंडो ई
तूंबो सो करयोड़ो।

म्हैं कीकर थिर हूं
अरे स्याणा .... बायरो
वठीनै सूं बैय‘र
एक सौरम ल्यावै।