भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बायु बहारि-बहारि रहे छिति, बीथीं सुगंधनि जातीं सिँचाई / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मत्तगयंद सवैया
(ऋतुराज के स्वागतार्थ वन के सुसज्जित करने का वर्णन)

बायु बहारि-बहारि रहे छिति, बीथीं सुगंधनि जातीं सिँचाई ।
त्यौं मधुमाँते-मलिंद सबै, जय के करषान रहे कछु गाई ॥
मंगल-पाठ पढ़ैं ’द्विजदेव’ सबै बिधि सौं सुखमा उपजाई ।
साजि रहे सब साज घने, बन मैं ऋतुराज की जानि अवाई ॥११॥