भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिखरे हैं पर / हरीश निगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खाली पिंजरा
डोल रहा
ओसारे में!

चला गया
सुगना
बिखरे हैं पर
टीसों के
मौसम से
गए ठहर
फ़र्क न लगता
शाम-सुबह
अंधियारे में!

फेरे हैं
दिन-भर
परछाईं के

आए ना
झोंके
पुरवाई के
टोना-सा है
अमलतास
कचनारों में!