भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिखर के रेत हुए हैं वो ख़्वाब देखे हैं / हनीफ़ कैफ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिखर के रेत हुए हैं वो ख़्वाब देखे हैं
मिरी निगाह ने कितने सराब देखे हैं

सहर कहें तो कहें कैसे अपनी सुब्हों को
कि रात उगलते हुए आफ़्ताब देखे हैं

कोई भी रूत हो मिली है दुखों की फ़स्ल हमें
जौ मौसम आया है उस के इताब देखे हैं

मैं बद-गुमान नहीं हों मगर किताबों में
तुम्हारे नाम कई इंतिसाब देखें हैं

कभी की रूक गई बारिश गुज़र चुका सैलाब
कई घर अब भी मगर ज़ेर-ए-आब देखे हैं

कोई हमारी ग़ज़ल भी मुलाहिज़ा करना
तुम्हारे हम ने कई इंतिख़ाब देखे हैं

पहना ढूँडते गुज़री है ज़िंदगी ‘कैफ़ी’
झुलसती धूप में साए के ख़्वाब देखे हैं