भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिखर चुका है मगर ज़िंदगी की चाह में है / कृष्ण कुमार ‘नाज़’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिखर चुका है मगर ज़िंदगी की चाह में है
ये दिल का आइना कब से तेरी पनाह में है

दुआ लबों पे है और दर्दो-ग़म कराह में है
ये कौन शख़्स मुहब्बत की बारगाह में है

दरख़्त वो जिसे पतझड़ ने ज़र्द-ज़र्द किया
मेरी तरह से वो तनहाइयों की राह में है

मलाल ये तो मुझे है ही तू मेरा न हुआ
ये ग़म अलग है कि कोई तेरी निगाह में है

सुगन्ध पाने की ख़्वाहिश में फूल तोड़ लिया
यही ललक थी जो शामिल मेरे गुनाह में है

जो बात-बात पे देता रहा फ़रेब सदा
क़दम-क़दम मेरा फिर भी उसी की राह में है

हैं दोनों एक ही रस्ते के हम मुसाफ़िर ’नाज़’
ये सोचना है ग़लत कौन किसकी राह में है