भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिछड़ने से पहले / दिनेश डेका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: दिनेश डेका  » संग्रह: मेरे प्रेम और विद्रोह की कविताएँ
»  बिछड़ने से पहले

जब आया था
ओस की गंध से महक रहे थे रास्ते
आते-जाते वक़्त
गिरी ओस के साथ रास्ते बन गए हैं समाधि

क्या छोड़ आया वहाँ
प्रेम या घृणा
क्या ले आया
मीठा या कड़वा

इस लेन-देन के खेल में
जेब में बचे कुछ सिक्के

पूछना न कभी
जन्म से ही चलते इस खेल तोड़ने के खेल के बारे में।


मूल असमिया से अनुवाद : दिनकर कुमार