भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिटिया / इवान बूनिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: इवान बूनिन  » संग्रह: चमकदार आसमानी आभा
»  बिटिया

बार-बार मुझे सपना यह आता है
मेरे भी बिटिया है एक
जिसके विवाह का इन्तज़ार डराता है
नर्म हॄदय है, स्नेह की मन में
भावना है नेक

आख़िर को वह वधू बनी
और फिर उसे सजाया गया
भाव-विह्वल हो प्यार से मैं
स्नेह-नदी में बह गया
दुल्हन के नवरूप में उसे जब
मेरे पास लाया गया
अपनी सुन्दर बिटिया को मैं
देखता ही रह गया

घूँघट हटा उसके चेहरे से
मैंने देखा उसे एक बार
वह क्षण ऐसा था कि उसे देख
मन भारी हो गया
चेहरे पर उसके लाजभरी चमक थी
आँखों में था प्यार
पर मैं सफ़ेद पड़ गया था,

(02 जुलाई 1916)

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय