भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिना भजन भगवान राम बिनु के तरिहें भवसागर हो / टेकमन राम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिना भजन भगवान राम बिनु के तरिहें भवसागर हो।।
पुरइन पात रहे जल भीतर करत पसारा हो
बून्द परे जापर ठहरत नाहीं ढरिकि जात जइसे पारा हो।।
तिरिया एक रहे पतिबरता पतिबचन नहिं टारा हो
आपु तरे पति को तारे तारे कुल परिवारा हो।।
सुरमा एक रहे रन भीतर पीछा पगु ना धारा हो
जाके सुरतिया हव लड़ने में प्रेम मगन ललकारा हो।।
लोभ मोह के नदी बहत बा लछ चौरासी धारा हो
सीरी टेकमन महराज भीखम सामी कोई उतरे संत हो।।