भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बिस्कुट के पेड़ / राजनारायण चौधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होते जो बिस्कुट के पेड़!
दौड़-दौड़कर जाते हम सब
तोड़-तोड़कर खाते,
मम्मी-पापा की खातिर
जेबों में भर लाते।

करते नहीं जरा भी देर!
होते जो बिस्कुट के पेड़!

अगर लताओं में टॉफी के
गुच्छे लटके होते,
मम्मी से पैसे न माँगते
और नहीं हम रोते।

लेते तोड़ पाँच-छः सेर!
होते जो बिस्कुट के पेड़।

लड्डू-पेड़े बरफी-चमचम
की जो होती खेती,
दादी माँ चोरी-चोरी नित
झोले में भर देती!

होता घर में इनका ढेर!
होते जो बिस्कुट के पेड़।

-साभार: नंदन, फरवरी, 1993