भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीच जमुनमा हे कोसी माय / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बीच जमुनमा हे कोसी माय
कदम के गाछ हे
ओहि चाढ़ि कोसी पारे हाक हे
कहाँ गेलै किए भेलो झिमला मल्लाह रे
जल्दी से उतारें पार रे
टूटलियो नइया हे कोसी माय
टूटल करूवारि हे
कौन विधि उतारब पार हे
जोड़ि लेबेइ नइया रे झिमला
जोड़ब करूवारि रे,
हिंगुर ढोरब दुनू मांगि रे
खने-खने खेबै रे मलहा,
खने भसियाबे रे
खने मांगे घटवारि रे
एहि पार देबौ रे झिमला
पाकल बीड़ा पान रे
ओहि पार गला गिरमल हार रे ।