भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीड़ी / सुदामा प्रसाद 'प्रेमी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जुगराज रयां तुम मेरी बीड़्यूं
तुमना सैरो रात कटैनी
एक का बाद हैकी फूकी
अपणा मन का भाव जगैनी।

दुःख मा मिन तुमपर अपणो
भारि भरोसो सी-धारी
जगै-जगै की तुमको ही मिन
अपणो दिल भी कटम्वारी।
फुकदा-फुकदा तुम तैं मेरी
खबड़ी लोळी खूब पटैनी
पर रात खुन पर भी मेरी
आंखी तींदि-की-तींदी रैनी।

बूणि-बूणि की जाळ कथा ही
अपणा मन तैं रौं मी ाूणू
अरे, न कैको कोई होन्दो
फिर कैका पे्रम कु रै तू रूणू।