भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बीसवीं सदी / श्याम किशोर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सबके बारे में
बहुत-बहुत बोलते हुए
सिर्फ़ अपने आप से
मुख़ातिब है यह लड़की

साल-दर-साल
अपने आप से बातें करते हुए !

अपने आप से बातें करती हुई लड़की
कहाँ
कौन से दरीचों में गुम हो जाती है
अंततः !