भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बूंण मिन् बणै / तोताराम ढौंडियाल 'जिग्यांसु'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हौर्यूं कि मिं नि जण्दो
पर् यो बूंण मिन्नीं बणै!
भले हि एक 'मेलि' बि नि बूति!
पौल बि नि रोपि!
पाणि बि चारो!
क्यारि बि नि गोडि!
बूंण-जंगल त् सृष्टि काला कै छीं!
डाला; मेरि उमर से बि बड़ै छीं!!

अपणि खांणि-मंगणि से धितेल्या!
तुमरो बि अपंण खीसुन्द् बटि कुछ्छु नि जांणू!
संचार माध्यमूंम् लूंण-मर्च चटबट्टो कैद्या!!

तुम्वीं छौ म्यार् ब्वै-बाब!
ठकुरो या! तुमरि खुट्यूँ मुन्ड धर्यूं!!
अन्तर्राष्ट्रिय पुरस्कार दिवैद्या!