भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेगम अख़्तर को सुनकर / अक्षय उपाध्याय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुमको सुनना
अपने को सुनना है
तुमको गाना
अपने को गाना है
तुमको सुनता और
अपने को गाता हूँ

तुम
गा रही हो

हवा काँप रही है

तुम गा रही थीं
ऋतुएँ बदल रही थीं

तुम गा रही थीं
खेत पक रहे थे
बीज
वृक्ष होने को उद्यत थे

तुम गा रही थीं
हम और, और दीर्घायु हो रहे थे

तुम्हारी आवाज़ में
बच्चे हैं

तुम्हारी आवाज़ में
नए लड़के-लड़कियाँ हैं

तुम्हारी आवाज़ में
पुरखे हैं

तुम्हारी आवाज़ में
मेहनत करते लोग हैं
देखो
तुम्हारी आवाज़ में
एक समूची जाति है