भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बेचारे मुफ़लिस का चेहरा फटी हुई पुस्तक-सा / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेचारे मुफ़लिस का चेहरा फटी हुई पुस्तक-सा
उसका है अस्तित्व द्वार पर गिरी पड़ी दस्तक -सा

भैया सच्ची बात किसी को कौन कहे इस युग में
झूठ तो शक्कर जैसा मीठा सच लगता अदरक-सा

बड़े लोग थे डाल के जूते आ बैठे मन्दिर में
और पुजारी दीन-हीन था खड़ा रहा दर्शक-सा

पलकों की तो बात ज़रा भी नहीं मानता यारो
मेरी आँखों का पानी है इक ज़िद्दी बालक -सा

नंगे पाँव रास्ता लम्बा,प्यास बड़ी निर्मोही
ऐसे में आ खड़ा है सूरज सिर पर खलनायक -सा

पपलू फ़्लैश,तम्बोला,रम्मी,पीना और पिलाना
लोग शहर के ख़ुशियों का यूँ करते हैं नाटक-सा.