भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बैठी अटा पर, औध बिसूरत / श्रीपति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैठी अटा पर, औध बिसूरत पाये सँदेस न 'श्रीपति पी के।
देखत छाती फटै निपटै, उछटै जब बिज्जु छटा छबि नीके॥
कोकिल कूकैं, लगै मन लूकैं, उठैं हिय कैं, बियोगिनि ती के।
बारि के बाहक, देह के दाहक, आये बलाहक गाहक जी के॥