भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बैठी विधुबदनी कृशोदरी दरी के बीच चोटिन को खींच-खींच तिरछी निहारती / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बैठी विधुबदनी कृशोदरी दरी के बीच चोटिन को खींच-खींच तिरछी निहारती।
कोई पानदान पिकदान लिए ठाढ़ी कोई नायिका नवेली केलि अंचल सुहावती।
नवल किशोरी गोरी अबहीं बयस थोरी बात बोलत रस भोरी अंग-अंग को सँवारती।
द्विज महेन्द्र रामचन्द्र दमकत मुखारबिन्द लाजत अरबिन्द ये तो आपको निहारती।