भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

भज ले हरि को, नाम रे मन तु / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

    भज ले हरि को, नाम रे मन तु

(१) बाल पणो तुन खेल म गमायो,
    ज्वानी म तीरीया का साथ
    काम रे धंदा म वा भी गमाई
    नई लियो राम को नाम...
    रे मन तु...

(२) आयो हो बुड़ापो न लग्यो हो कुड़ापो,
    डोलन लाग्यो सारो
    शरीर आखं सी सुझतो नही रे
    पड़यो पलंग का माही...
    रे मन तु...

(३) राम नाम को घट म हो राखो,
    राखो दिन और रात
    मुक्ति होय थारी आखरी घड़ी रे
    भेज वैकुन्ठ धाम...
    रे मन तु...

(४) कहत कबीरा सुणो भाई साधू,
    घट म राखो राम
    मनुष जलम काई भाव मिल्यो रे
    नई मिल अयसो धाम...
    रे मन तु...