भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भय देखे हमने बहुतेरे / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओसिप मंदेलश्ताम  » संग्रह: तेरे क़दमों का संगीत
»  भय देखे हमने बहुतेरे

भय देखे हमने बहुतेरे
बड़बोले ओ साथी मेरे!

ओह! छूटे खैनी की फँक्की
मूर्ख है तू सनकी है झक्की!

गूँजे यदि जीवन, कूके मयूरी
खाने को मिलते तब हलवा-पूरी

पर लगता है रह जाएगी अब
यार तेरी यह चाहत अधूरी

(रचनाकाल : अक्तूबर 1930, तिफ़लिस)