भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भांगटोॅ लागलै / रौशन काश्यपायन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंघड़-बोहोॅ हसी रहलोॅ छै
धरती आय घसी रहलोॅ छै
पूछै छै आपन्है मनोॅ सें
कि कौनें लुटी लेली लेलकै हमरोॅ मुकुट?
खोजोॅ राम
छौ कन्नें तोर्होॅ
ऊ हरियैलोॅ-भरियैलोॅ चित्रकूट ?