भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भागीरथ ने करी तपस्या / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

भागीरथ ने करी तपस्या,
गंगा आन बुलाई मोरे लाल।
सरग लोक से गंगा निकरी,
शंकर जटा समानी मोरे लाल। भागीरथ...
शंकर जटा से निकली गंगा
जमुना मिलन खों धाईं मोरे लाल। भागीरथ...
मिलती बिरियां गंगा झिझकी
हम लुहरी तुम जेठी मोरे लाल। भागीरथ...
हम कारी तुम गोरी कहिये
तुमरोई चलहै नाम मोरे लाल। भागीरथ...
इतनी सुनके गंगा उमड़ी
दोई संग हो गईं मोरे लाल। भागीरथ...
जो कोऊ संगम आन नहाहै,
तर जैहें बैकुंठ मोरे लाल। भागीरथ...