भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भींजै रे ऐंगना / राजकुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रही-रही मारै छै हुनी पिचकारी, भींजै रे ऐंगना
भींजै सौंसे अटारी, भींजै रै ऐंगना

घुरी-घुरी घूरै छै अँगिया अनाड़ी, घूरै रे घूरना
घूरै सौंसे बजारी, घूरै रे घूरना

रही-रही चूमै छै मँजरैलोॅ डारी, चूमै रे चूमना
चूमै महुआ रोॅ साड़ी, चूमै रे चूमना

रही-रही टेबै छै टुक-टुक निहारी, टेबै रे टेबना
टेबै नेमुआ रोॅ बाड़ी, टेबै रे टेबना

रही रही फेकै छै रस रोॅ फुहारी, फेकै रे फेकना
फेकै नयना कटारी, फेकै रे फेकना

रही-रही छेड़ै छै बँहिया मोचारी, छेड़ै रे मोहना
‘राज’ रसिया बिहारी, छेड़ै रे मोहना