भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भींत है साळ री / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ऊंचो ढिग्ग
माटी रो
निरी माटी नीं
भींत है साळ री
भींत रो बेजको
बिरथा नीं है
इणी में ही खूंटी
काठ री
जिण माथै
खेत सूं बावड़
टांग्यो हो कुड़तो
घर बडेरै
अर
बिसांई सारू
मींची ही आंख
जकी फेर नीं खुली।