भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भुलक्कड़ राम / बाबूराम शर्मा 'विभाकर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल्ली के रहने वाले
अजब भुलक्कड़ राम जी,
खाना खाना भूल गए
करते हैं आराम जी!

जब उनको फिर भूख लगी
हलवे का लें नाम जी,
पूछा इक हलवाई से-
क्या है इसका दाम जी?
हलवाई ने टोक दिया
लेकन उनक नाम जी,
बिन पैसे हलवा कैसे
वाह, भुलक्कड़ राम जी!

दूध पेस्ट रगड़ा माथे
समझा उसको बाम जी,
अंट-शंट कामों को यूँ
करें भुलक्कड़ राम जी!
मामा आए मिलने को
पूछा क्या है काम जी,
कौन कहाँ के हो जी तुम,
कर लो ‘राम-राम’ जी!

रिश्ते को भी भूल गए
बड़े भुलक्कड़ राम जी,
‘भूल भुलक्कड़’ का सबसे
पाते यह इनाम जी।

-साभार: नंदन, दिसंबर, 1997, 40