भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भूल गये मोबाईल / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
      आफिस जाते जाते भालू ,
      भूल गये मोबाईल|
      मार किसी ने टक्कर उनको,
      किया सड़क पर‌ घायल|

      कैसे हाय हलो कर पाते,
      कैसे हाल बताते|
      किसी तरह वापिस‌ घर आये,
      रोते और चिल्लाते|

      अब तो रस्सी डाल ग‌ले में ,
      मोबाईल को बांधा|
      फिर न भूलेंगे मोबाईल ,
      किया सभी से वादा|