भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भैया का रिक्शा / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक नहीं, दो नहीं,
पाँच नहीं, दस।
भैया का रिक्शा है
एक मिनी बस।

दस बच्चों,
दस बस्तों की पूरी टीम,
लदी-फदी चलती है
डिमक-डिमक डीम,
क्या मजाल जो कोई
हो टस से मस।

पानी की बोतलें
आधी खुलतीं,
बतियाती चलती हैं
हिलती-डुलती,
हँस-हँसकर बिखराते
भैया बतरस।
भैया का रिक्शा है
एक मिनी बस।