भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भोला शंकर-2 / कुमार सुरेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शिशु
इस साल
कुछ बड़ा हो गया है

लड़खड़ाकर
चलने लगा है

पत्थर के टुकड़ों
से खेलता है
उन्हीं से
चोट खाकर

पत्थर उठाती माँ
की गोद में
बैठने की आस में
जाता है
झिड़की खाता है

रोते हुए फिर पत्थरों से
खेलने लग जाता है।