भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

भो भो नसोध / रत्न शमशेर थापा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भो भो नसोध अब केहि मलाई
रुकेमा छ बुझ तिम्रै भलाई, लौ है

चाँदनी रात निलो आकाश
छर्छन् जहीं यहीं सुबास
जानु नजानु यो दिल दुखाई
रुकेमा छ बुझ तिम्रै भलाई, लौ है

टलल टलल तारा मुनि
सलल सलल बग्ने ध्वनि
सुन्नु नसुन्नु आउनु आई
रुकेमा छ बुझ तिम्रै भलाई, लौ है

बसन्ती हावा फूलको मेला
रुपौला घटा प्यारको बेला
बुझ्नु नबुझु बिरह जगाई
रुकेमा छ बुझ तिम्रै भलाई, लौ है