भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मंगळगीत / शिवदान सिंह जोलावास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दौड़’र कठै मिलसी खुसी
झूठा भरम नैं पाळ रैया हो
कदैई नचींता बैठ’र
निरखो ऊगतो सूरज
खिल्योड़ा फूल
ओस री बूंदां
अर टाबरां री हंसी नैं
सुणो कोयल री टहूक
बिरखा रो सरणाटो
अर बादळी री गाज नैं
थांनैं साच ठाह पड़ जासी।