भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मंज़िलें आईं तो रस्ते खो गए / इफ़्फ़त ज़रीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मंज़िलें आईं तो रस्ते खो गए
आबगीने थे के पत्थर हो गए

बे-गुनाही ज़ुल्मतों में क़ैद थी
दाग़ फिर किस के समंदर धो गए

उम्र भर काटेंगे फ़सलें ख़ून की
ज़ख़्म दिल में बीज ऐसा बो गए

देख कर इंसान की बे-चारगी
शाम से पहले परिंदे सो गए

अन-गिनत यादें मेरे हम-राह थीं
हम ही 'ज़र्रीं' दरमियाँ में खो गए