भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मकान / देवांशु पाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दीवार जितनी
जमीं के ऊपर
उतनी ही जमीं के नीचे
जितनी मजबूत जमीं
उतना ही मजबूत मकान
जितनी उम्मीद
मकान की छत पर
उतनी ही नींव पर
कल जब
जली थी एक तिली माचिस की
पति-पत्नी के तकरार से
एक पल के लिए
सारा मकान थर्रा गया
किसी अप्रत्याशित भय से।