भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मगन मन डोले रे जय अम्बे बोले / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मगन मन डोले रे जय अम्बे बोले
तो पर भैया जाऊं बलिहारी
देखत रूप सलोने। मगन मन...
जगमत जलती ज्योति तुम्हारी
घन-घन घंटा बोले। मगन मन...
देख रहे तोह सब नर नारी
एकटक अंखिया खोले। मगन मन...