भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मजूरी कई के . भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मजूरी कइ के
हम मजूरी कइ के...
जी हजूरी कइ के...
अपने सइयाँ के... अपने बलमाँ के पढ़ाइब
हम मजूरी कइ के...
जी हजूरी कइ के...

रात-दिन खटिबे
काम सब करिबे
कुल-कानि लइ के
भला का करिबे
तन अंगूरी कइ के
मन सिन्दूरी कइ के
सिच्छा पूरी हम कराइब
अपने राजा के... अपने बाबू के... अपने राजा के पढ़ाइब

हम मजूरी कइ के...
जी हजूरी कइ के... हम मजूरी कइ के...