भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मत्त हंस मिथुन विचरते... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  मत्त हंस मिथुन विचरते...
प्रिये ! आई शरद लो वर!

मत्त-हंस मिथुन विचरते

स्वच्छ फुल्लाम्भोज खिलते

मन्द-गति प्रातः पवन से

वीथियों के जाल हिलते

ज्योति में अवदात वे सर

हृदय हर लेते अवश कर
प्रिये ! आई शरद लो वर!