भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मदहोशी / सौरभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर शख़्स बदहवासी में नजर आता है
अपनी मदहोशी में मस्त नजर आता है

अपने ही नशे में चूर घूम रहा है
पूछते हो सँसार रँगीन नजर आता है

कोई आ रहा है कोई जा रहा है
कोई हँस रहा है कोई गा रहा है

कोई खरीद रहा है कोई बेच रहा है
कोई दूर से बस देख रहा है

कोई दिखा रहा है झूम-झूम तमाशा
कोई देख मँद-मँद मुस्का रहा है।