भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मधुर विकसित पद्म वदनी... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  मधुर विकसित पद्म वदनी...
प्रिये ! आई शरद लो वर!

मधुर विकसित पद्म वदनी कास के अंशुक पहनकर,

मत्त मुग्ध मराल कलरव मञ्जु नूपुर-सा क्वणित कर

पकी सुन्दर शालियों सी देह निज कोमल सजा कर

रूप रम्या शोभनीय नववधु सी सलजं अन्तर

प्रिये ! आई शरद लो वर!